how to become airforce pilot

इंडियन एयरफोर्स में पायलट कैसे बने ? पूरी जानकारी

एयर फाॅर्स में पायलट बनना कई नौजवानों का सपना होता है लेकिन ये इतना आसान नहीं होता इस के लिए बहुत मेहनत और समर्पण द्रिड इच्छाशक्ती और साहस की ज़रूरत होती है वर्ल्ड अफेयर्स आपका स्वागत है आज की ब्लॉग में हम आपको बताने वाले है के एयर फाॅर्स पायलट कैसे बने?

एयर फाॅर्स पायलट को बहुत ही कठिन ट्रेनिंग से गुज़ारना होता है जिस में फाइटर प्लान फ्लाइंग के दौरान हवा से हवा में आकर्मण करना होता है इंडियन एयर फाॅर्स पायलट की ज़िम्मेदारी होती है के वह दिए गए मिशन को पूरा करे जिसमे दुश्मन के बेस को तबहा करना सैनिकों और नागरिको को बचाना या दोनों शामिल होते है कुछ मामलो में एयर फाॅर्स पायलट्स को शांति बनाये रखने वाले मिशन में भी लगाया जाता है हाला के ज़यादातर मामलो में इन्हे फाइटर प्लान के साथ आकर्मण की ट्रेनिंग दी जाती है |

एयर फाॅर्स में पायलट बनने के लिए कोर्सेज :

इंडियन एयर फाॅर्स में पायलट बनने के लिए चार तरीके है जिनके ज़रिये आप एयर फाॅर्स में पायलट बन सकते है नेशनल डिफेन्स अकैडमी (एनडीए) कंबाइन डिफेन्स सर्विस एग्जाम (सीडीएसई) , एनसीसी एंट्री और शार्ट सर्विस कमिशन एंट्री (एसएससी) ऐसे कोर्स है जिनके ज़रिये एयर फाॅर्स में आपकी फ्लाइंग अफसर के रूप में आपकी एंट्री हो सकती है |

इन में पहले तीन तरीके परमानेंट कमिशन है जब के चौथा टेम्पररी कमिशन है उमीदवार एनडीए में बारवी के बाद एंट्री ले सकता है बक्की कोर्स के लिए उमीदवार का ग्रेजुएट होना ज़रूरी है और इसके लिए उमीदवार को एनडीए की परीक्षा पास करनी होती है और ये परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा ली जाती है और इस परीक्षा को पास करने के बाद उमीदवार को तीन साल की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है |

ट्रेनिंग के बाद उमीदवारो को परमानेंट कमिशन ऑफिसर्स के रूप में कमिशन या इंडियन एयर फाॅर्स स्टेशन में पायलट के रूप में नियुक्त किया जाता है कंबाइन डिफेन्स सर्विस एग्जामिनेशन सीबीएसई एनडीए के अतिरिक्त यूपीसीई सीडीएसई परीक्षा का भी आयोजन करता है |

जिसे ज़रिये भी पुरष उमीदवार पायलट बन सकते है इस परीक्षा को पास करने के बाद उमीदवारो को इंडियन मिल्ट्री अकेडमी या इंडियन नेवल अकेडमी इंडियन एयर फाॅर्स अकेडमी में दाखिला दिया जाता है |

इंडियन एयरफोर्स
Airforce Jet

एनडीए ट्रेनिंग की तरह ही ट्रेनिंग के बाद ही उमींदवारो को परमानेंट कमिशन ऑफिसर्स की नियुक्ति दी जाती है या इंडियन एयर फाॅर्स में पायलट के रूप में नियुक्ति दी जाती है
नेशनल कैडेट कॉप्स एनसीसी स्पेशल एंट्री अब बात आती है नेशनल कैडेट कॉप्स एनसीसी स्पेशल एंट्री की जो के सिफ्र पुरष उमीदवारो के लिए है जिनके पास एयर विंग सीनियर डिवीज़न का सी-सर्टिफिकेट होता है उन्हें नेशनल कैडेट कॉप्स स्पेशल एंट्री के योग्य माना जाता है |

नियुक्ती डायरेक्टर जनरल नेशनल कैडेट कॉप्स या सम्बनित एनसीसी एयर स्क्वाड्रन के माध्यम से दी जाती है ये स्पेशल एंट्री स्कीम है जिस में उमीदवारो को परमानेंट कमिशन ऑफिसर्स के रूप में नियुक्ति दी जाती है |

इंडियन एयरफोर्स इंडियन-एयरफोर्स-में-पायलट-कैसे-बने
इंडियन एयरफोर्स

एयर फाॅर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट यानि के (AFCAT) :

ये टेस्ट महिला और पुरष दोनों के लिए उपलब्द होता है इस टेस्ट का आयोजन इंडियन एयर फाॅर्स के द्वारा चौदह वर्षों के लिए शार्ट सर्विस कमिशन में नियुक्ती देने के लिए किया जाता है इसके माध्यम से उमीदवारो का चयन टेक्निकल ब्रांच्स एवं ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच्स के लिए किया जाता है इस परीक्षा का आयोजन साल में दो बार किया जाता है |

1.एयर फाॅर्स पायलट बनने के लिए योग्यता मापदंड |
2.एयर फाॅर्स पायलट बनने के लिए उमीदवारो को भारत का नागरिक होना चाहिए |
3.एयर फाॅर्स पायलट बनने के लिए अकेडमिक योग्यता |
4.एनडीए परीक्षा के माध्यम से एंट्री के लिए उमीदवारो को फिजिक्स और मैथमेटिक्स सब्जेक्ट्स के साथ बारवी पास होना चाहिए |
5.सीडीएसई एनसीसी स्पेशल एंट्री और (AFCAT) के माध्यम से एंट्री के लिए उमीदवारो को ग्रेजुएट होना चाहिए इंजीनियरिंग डिग्री वाले उमीदवार भी सीडीएसई की परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते है |

आयु सीमा :

एनडीए परीक्षा के माध्यम से एंट्री के लिए उमीदवारो की आयु 16 ½ से 19 साल के बीच में होनी चाहिए |
सीडीएसई एनसीसी स्पेशल एंट्री और (AFCAT) के माध्यम से एंट्री के लिए उमीदवारो की आयु 20 से 24 साल की होनी चाहिए |

एयर फोर्स पायलट को मिलने वाली सैलरी एंड अल्लोवान्सेस :

फ्लाइंग अफसर या इंडियन फाॅर्स पायलट पेय बैण्ड के आधार पे निर्धारित होती है मूल वेतन पेय बैण्ड 3 15,600 रू से 39,100 रू होता है इसके अतिरिक्त ग्रेड पेय 5,400 रू प्रति माह दिया जाता है मिलट्री सर्विस पेय 6,000 रू प्रति माह durance अलाउंस 21,600 रू प्रति माह है|

किट मेंटेनेंस अलाउंस 500 रू प्रति माह और ट्रांसपोर्ट अलाउंस 3,200 रू प्रति माह + परमुख शहरों में DA या 1,600 रू या दूसरे शहरों में DA भी दिया जाता है फ्लाइंग ब्रांच अफसर को अनय अलाउंस में 11,250 रू प्रति माह दिया जाता है कुल मिला कर नए रिक्रूट फ्लाइंग अफसर को छठे वेतन आयोग के अनुसार 66,110 रू प्रति माह दिया जाता है सर्विस में अनुभव और प्रमोशन के बाद सैलरी पेय बैंड 4 में 1॰5 लाख तक हो जाती है |

ये नहीं पढ़े : गाज़ी अटैक क्या था | मिशन का क्या हुआ ? 1971

हम उम्मीद करते है के हमारा ये ब्लॉग आपके लिए काफी मददगार और जानकारी से भरपूर रहा होगा अगर आपको ये ब्लॉग पसंद आया हो तो इसे लाइक करे और अपने दोस्तों के साथ शेर कीजिये और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करना ना भूले धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published.