Rolls royce fact in hindi

Rolls-Royce इतनी महंगी क्यों होती है ? Facts

Luxurious कारों के शौकीन लोगों की इस दुनिया में कोई कमी नहीं है दोस्तों और ना ही luxurious कारों की कोई कमी है ऐसी ही एक Premium Car Brand का नाम है – Rolls-Royce

जिसका सिर्फ नाम ही काफी है कार प्रेमियों को एक्साइटिड करने के लिए यह कार इतनी ज्यादा पॉपुलर है इसकी एक झलक देखने की चाहत बहुत कार प्रेमी रखते हैं इस कार की स्टार्टिंग प्राइस 5 करोड़ से शुरू होती है यह जानकर आपको पता चल ही गया होगा कि यह कार कितनी प्रीमियम और एक्सक्लूसिव है |

अगर ऐसे में आप भी Ghost, Phantom और Dawn जैसे मॉडल मार्केट में उतारने वाली कार कंपनी के बारे में और मजेदार बातें जानना चाहते हैं | Rolls Royce के बारे में और मजेदार बातें जानते हैं |

Rolls-Royce Car

दोस्तों Rolls-Royce एक ब्रिटिश लग्जरी ऑटोमोबाइल कार कंपनी है इस कंपनी की शुरुआत Henry Royce के द्वारा 1884 में established किए गए इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल बिजनेस से हुई Royce ने अपनी पहली मोटर कार 1904 बनाई थी और उसी साल Royce की मुलाकात Charles rolls से हुई जिनकी कंपनी लंदन में क्वालिटी कार्स बेचा करती थी|

इसके बाद rolls और Royce में एक एग्रीमेंट हुआ जिसके हिसाब से वॉइस लिमिटेड कार बनाएगी और उन कारों को बेचने का काम रोल्स कंपनी करेगी इस तरह इस एग्रीमेंट के बाद साल 1906 में रोल्स रॉयस ब्रांड एस्टेब्लिश हुआ जो आज तक एक्सक्लूसिव और प्रीमियम ब्रांड बनाता है |

इसी साल इसी कंपनी ने 6 सिलेंडर silver ghost कार लांच की जिसे 1 साल के अंदर ही अंदर बेस्ट कार इन द वर्ल्ड कहा जाने लगा यह कार नॉनस्टॉप 24000 किलोमीटर तक दौड़ी इस किताब के बाद यह रोल्स रॉयस कंपनी को रिलाएबल समझा जाने लगा 1980 में ब्रिटिश डिफेंस कंपनी Vickers ने rolls-Royce को खरीद लिया |

और 1998 में Volkswagen और BMW कंपनियों में इस कार कंपनी को खरीदने की होड़ शुरू हो गई इन दोनों कंपनियों में काफी सालों तक

Rolls-Royce की ownership को लेकर काफी dispute रहा और negotiation के बाद साल 2003 में BMW के पास Rolls-Royce की कंप्लीटownership आ गई Rolls-Royce की Phantom कार 2003 में लांच की गई और यह कार BMW के under बनी पहले न्यू जनरेशन रोल्स रॉयस लग्जरी कार थी आप ही यह जानकर हैरान रह जाएंगे इस कार के 44,000 कलर ऑप्शन मौजूद हैं इस मॉडल की हर एक यूनिट जर्मनी में बनती है |

Rolls-Royce Car

और इसे बनाने में 200 एलुमिनियम सेक्शन और 300 अलाय पार्ट्स मशीन से नहीं बल्कि हाथों से weld किया जाता है इस कार में v12 इंजन है जो इस कार को केवल 5.9 सेकंड में 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड पर ले जाता है Ghost मॉडल 5 से 7 करोड़ के बीच में आता है वही Phantom मॉडल की कीमत 9 से 11 करोड़ रहती है स्प्रे में ब्रांड की सबसे ज्यादा कारें हॉन्ग कोंग शहर में देखी जा सकती हैं |

इस कार को खरीदने वाले लोगों में सबसे कम उम्र का शक्स सिर्फ 12 साल का है जिसने Phantom कार खरीदी थी इस कार की finishing आपकी आंखों में जो चमक ला देती है वही इसकी finishing करने में बहुत समय लग जाता है |

दोस्तों और Rolls-Royce यह कार को पेंट करने में 100 पाउंड पेंट इस्तेमाल होता है और इस की पेंटिंग 5 लेयर्स में होती है इस तरह से finishing को पूरा करने में तकरीबन 7 दिन लग जाते हैं|

इन गाड़ियों में बॉडी पेंट का वजन 45 किलो तक का होता है यह कार अपने कस्टमर्स की संतुष्टि के लिए एक्सपेरिमेंट करने से बिल्कुल नहीं कतराती इसका एक उदाहरण हम आपको बताते हैं जब Rolls-Royce के एक कस्टमर ने चाय की कैटल रखने के लिए कार के दरवाजे में अलग कंपार्टमेंट की डिमांड की तो इस कंपनी ने कार का क्रैश टेस्ट कर डाला और उस कस्टमर की जरूरत के हिसाब से कार बना डाली |

इस बात से वह कस्टमर इतना खुश हुआ क्या उसने क्रैश टेस्ट में डिस्ट्रॉय हुई कार और नई कार की कीमत इस कंपनी को अदा कर दी और दोस्तों Rolls-Royce से जुड़ा एक और दिलचस्प किस्सा तब हुआ जब Rolls-Royce जैसी शाही गाड़ियों से शहर का कूड़ा उठाया गया |

यह बात 1920 की है जब अलवर के महाराजा जय सिंह प्रभाकर ने 7 Rolls-Royce कारें खरीदी इंग्लैंड में उन्हें इस कंपनी की कार को टेस्ट ड्राइव करने से मना किया गया था असल में हुआ यह था जब महाराजा जय सिंह शोरूम में कार देखने के लिए गए तो वह आम कपड़ों में थे उन्हें किसी ने भी उस वक्त पहचाना ही नहीं और जब उन्होंने गाड़ी की टेस्ट ड्राइव मांगी तो उन्हें इस बात के लिए साफ मना कर दिया गया |

यह बात उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं आई और इसके लिए उन्होंने इस ब्रांडेड कंपनी की 7 गाड़ियां खरीदी और उन्हें कचरा उठाने पर लगा दिया और जब Rolls-Royce कंपनी को इस बात का पता चला तो उन्होंने महाराजा जय सिंह से लिखित रूप में माफी मांगी यह कंपनी अपने कस्टमर्स को एक बहुत ही अच्छा ऑप्शन ऑफर करती है जो काफी पॉपुलर भी है और वह ऑप्शन है |

Straight light headliner इसमें जो 1340 fiber optic lights का इस्तेमाल होता है उन्हें हाथ से बनाया जाता है और इनमें एक स्पेशल इफेक्ट जनरेट करने के लिए लगभग 2 किलोमीटर का केबल इस्तेमाल किया जाता है इस काम में लगभग 12000 अमेरिकन डॉलर खर्च हो जाते जब कार इस्तेमाल में नहीं आ रही होती तब इसके front look को enhance करने वाले Hood Ornament को hood मैं छुपाया भी जा सकता है और इसे छुपाने के लिए 24 links and bearings का इस्तेमाल होता है |

Hood ornament को The Spirit of Ecstasy कहा जाता है अभी तक जितनी भी Rolls-Royce कारें बनी है उसकी 65% कारें आज भी सड़कों पर दौड़ती हुई देखी जा सकती हैं |

इन कारों का हैंड मेड क्वालिटी इंटीरियर और एक्सक्लूसिव फीचर्स सबसे अलग और स्पेशल बनाता है इसीलिए यह कारें दुनिया भर के टॉप बिजनेसमैन की पहली पसंद बनी हुई है तो दोस्तों अब आपको Rolls-Royce कार कंपनी के बारे में दिलचस्प जानकारी मिल गई है |

ये भी पढ़े : Rakesh Jhunjhunwala कौन है, क्यों इतने फेमस है

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारियां पसंद आई होंगी और अगर आपको हमारा यह ब्लॉग अच्छा लगा इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें लाइक करें और नीचे कमेंट बॉक्स में हमें कमेंट करके जरूर बताएं और हमारी ऐसी ही और जानकारियों से भरी ब्लॉग को सबसे पहले देखने के लिए के लिए हमारे ब्लॉग World Affairs को Subscribe करें और साथ में Bell icon को जरूर प्रेस करें धन्यवाद |

One thought on “Rolls-Royce इतनी महंगी क्यों होती है ? Facts

Leave a Reply

Your email address will not be published.