SEO एक्सपर्ट कैसे बने फुल डिटेल हिंदी में

आज ऑनलाइन बिज़नेस ने तेजी से पुरे मार्किट को कवर कर लिया है और ये सच है की कोई भी ऑनलाइन बिज़नेस डिजिटल मार्केटिंग के बिना सर्वाइव नहीं कर सकता जिसका एक मेजर फैक्टर ऐस ई ओ होता है इसलिए चाहे अपनी वेबसाइट या यूट्यूब World Affairsको तेजी से हायर रैंकिंग मैं लाना हो या किसी डिजिटल मार्केटिंग कंपनी मैं एस ई ओ (SEO एक्सपर्ट कैसे बने फुल डिटेल इन हिंदी)रिलेटेड जॉब के लिए अप्लाई करना हो दोनों ही सिचुएशन मैं आपको एस सी ओ एक्सपर्ट बनना होगा और ये चुटकियों मैं होने वाला काम बिलकुल नहीं है । लेकिन अगर आप वाकई मैं एस ई ओ मैं इंटरेस्ट रखते हैं और इसमें अपनी स्किल्स को बढ़ाना चाहते हैं |

तो World Affairs आपकी हेल्प जरूर करेगा और इसीलिए इस Blogs मैं हम आपको बताने वाले हैं की आप एस ई ओ एक्सपर्ट कैसे बन सकतें है यानि आपको एस ई ओ एक्सपर्ट बनने के लिए आपको क्या क्या करना होगा इसीलिए इस Blogs को पूरा जरूर देखें ।[SEO एक्सपर्ट


तो चलिए शुरू करते हैं और सबसे पहले जानते है की एस ई ओ क्या होता है ।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन यानि की एस ई ओ बहोत से टूल्स और प्रैक्टिसेज का ऐसा कलेक्शन है जो सर्च इंजन रिजल्ट मैं आपकी वेबसाइट और World Affairsको हाई रैंकिंग पर लाने मैं हेल्प करता हैं । जिससे आपकी साइट और World Affairsपर ज्यादा आर्गेनिक ट्रैफिक आता है जिससे बिज़नेस भी ज्यादा बढ़ने लगता है और ये तो आप जानते ही होंगे की सर्च इंजन क्या होता है । ऐसी वेब साइट जिसके जरिये यूज़र्स इंटरेट कॉन्टेंट सर्च करते हैं जैसे गूगल, याहू, बिंग और गिबिरु जैसे सर्च इंजिन्स ।

SEO एक्सपर्ट  SEO एक्सपर्ट कैसे बने फुल डिटेल इन हिंदी SEO
SEO

SEO एक्सपर्ट


एस ई ओ एक्सपर्ट बन कर आप अपनी वेब साइट्स पर ट्रैफिक और हाई रैंकिंग ला सकतें हैं लेकिन आपको ये भी पता होना चाहिए की आप एस ई ओ एक्सपर्ट बनना चाहते हैं या एस ई ओ प्रोफेशनल क्योंकि दोनों मैं थोड़ा डिफरेंस होता है । एक एस ई ओ एक्सपर्ट वो है जिसे पता है की एस ई ओ कैसे वर्क करता है और सर्च इंजन पर किसी वेबसाइट की रैंकिंग हाई करने के लिए एस ई ओ को कैसे अप्लाई किया जाये जबकि एक एस ई ओ प्रोफेशनल ऐसा एस ई ओ एक्सपर्ट होता है जो एस ई ओ प्रैक्टिस एक प्रोफेशन की तरह करता है जिसमे एस ई ओ कंसल्टिंग, एस ई ओ सर्विसेज और प्रोजेक्ट्स बेस पर क्लाइंट से डील करना शामिल होता है। इस डिफरेंस को तो अपने समझ लिया लेकिन क्या ये आप जानते हैं की सर्च इंजन कैसे काम करता है ।

एस ई ओ सर्च इंजन से रिलेटेड है इसीलिए ये जानना बहोत जरुरी है की सर्च इंजन कैसे काम करता है । इसे आसानी से समझने के लिए आप ये इमेजिन करिये की दुनिया की सबसे बड़ी लाइब्रेरी गूगल सर्च इंजन की है और गूगल लाइब्रेरियन है जिसने अलग अलग रैक्स मैं हजारो, लाखो वेब पेजेज को ऑर्गनाइज़ करके रखा हुआ है । और जब आपको कोई इनफार्मेशन चाहिए होती है तो आप गूगल पर सर्च मैं अपनी क़्वेर्री लिख देते है और गूगल उससे रिलेटेड बेस्ट इनफार्मेशन उन रैक्स मैं से निकाल कर आप के सामने रख देता है । लेकिन क्योंकि ये प्रोसेस ऑनलाइन है। इसीलिए ये तीन प्रोसेसेज से मिलकर तईयार होता है ।

क्रॉलिंग , इंडेक्सिंग और रैंकिंग क्रॉलिंग वो प्रोसेस है जिसके जरिये सर्च इंजन के वेब क्रॉलर्स जिन्हे बोट्स या स्पाइडर भी कहा जाता है वेब पर कॉन्टेंट डिस्कवर करतें हैं फिर इंडेक्सिंग प्रोसेस मैं अलग अलग इंडेक्स मैं कॉन्टेंट को जोड़ कर ऑर्गनाइज़ किया जाता है और फिर सेकंड से भी कम टाइम मैं यूजर की सर्च क़्वेरी के लिए बेस्ट सूटेबल कॉन्टेंट की रैंकिंग करके यूजर के सर्च रिजल्ट मैं शो कर दिया जाता है । एक एस ई ओ एक्सपर्ट के रूप मैं आपको अपनी साइट को इस तरह से ऑप्टिमाइज़ करना होगा की सर्च इंजन उसे आसानी से रीड कर सके और इंडेक्स कर सके तभी तो आपकी साइट तो टॉप रैंकिंग मैं जगह मिल पायेगी ।


सर्च इंजन कैसे वर्क करता है

ये जानने के बाद आपको अगले स्टेप मैं कीवर्ड रिसर्च को भी अच्छे से समझना होगा । वैसे तो एस ई ओ के थ्री टाइप्स मैं कीवर्ड रिसर्च करना और लिंक बिल्डिंग करने जैसे टास्क भी शामिल होतें है और इन तीन टाइप्स की बात हम आगे Blogs मैं करने वाले हैं लेकिन कीवर्ड्स और लिंक बिल्डिंग के बारे मैं थोड़ी एक्स्ट्रा बात करना फायदेमंद होगा इसलिए पहले इनके बारे मैं हम थोड़ा सा जान लेते हैं । एस ई ओ मैं कीवर्ड्स का बहोत इम्पोर्टेन्ट रोले होता है कीवर्ड रिसर्च से आपको ऐसा स्पेसिफिक सर्च डेटा मिलता है जो आपको बताता है की लोग क्या सर्च कर रहे हैं कितने लोग इसे सर्च कर रहे हैं और उन्हें ये इनफार्मेशन किस फॉर्मेट मैं चाहिए सही कीवर्ड्स रिसर्च करके आप अपने टारगेट मार्किट को समझ सकतें हैं और ये भी पता लगा सकतें हैं की वो किस तरह आपके कंटेंट्स, सर्विसेज या प्रोडक्ट्स को सर्च कर रहे हैं ।

इतना पता चलने के बाद आप आसानी से अपनी वेबसाइट को उन तक पहुंचा सकेंगे और सर्च इंजन पर हाई रैंकिंग और ज्यादा से जयादा आर्गेनिक ट्रैफिक लाना आपके लिए आसान हो जायेगा। इसलिए कीवर्ड रिसर्च को इम्पोर्टेंस देनी होगी। इसके लिए आप कीवर्ड रिसर्च टूल की हेल्प ले सकतें हैं लेकिन इसके साथ आपको अपना विज़न और ऑब्जरवेशन भी बढ़ानी होगी ताकि आप एक ही इनफार्मेशन को बहोत से इफेक्टिव कीवर्ड्स के जरिये प्रेजेंट करना सिख सकें ।

कीवर्ड रिसर्च के अलावा लिंक बिल्डिंग भी एस ई ओ का इम्पोर्टेन्ट पार्ट होता है जिसके बारें मैं एस इ ओ एक्सपर्ट को नॉलेज होनी चाहिए । क्योंकि गूगल के अकॉर्डिंग क्वालिटी कॉन्टेंट के अलावा लिंक्स भी एस ई ओ के इम्पोर्टेन्ट रैंकिंग फैक्टर्स हैं । एक साइट के पास जितने ज्यादा क्वालिटी लिंक होतें वो उतनी ही ट्रस्टेड साइट होती है जैसे विकिपीडिआ जिस पर हजारो साइट्स के लिंक होते है और ये लिंक्स इंडीकेट करतें हैं की विकिपीडिआ उन सभी साइट्स मैं ट्रस्टेड है, एक्सपर्टीज रखती है और अथॉरिटी कल्टीवेट करती है इसीलिए एक एस ई ओ एक्सपर्ट के तोर पर आपको लिंक ब्लीडिंग मैं भी एक्सपर्ट बनना होगा ताकि आप जिस वेबसाइट का एस ई ओ करें उसे ऑथेंटिक और ट्रस्ट वर्दी बना सके लेकिन अगर आपको लगता है एस ई ओ केवल कीवर्ड्स और लिंक्स तक ही सिमित है तो ऐसा बिलकुल भी नहीं है एस ई ओ इस से कहीं ज्यादा है और इसका पर्पस केवल सर्च इंजन ट्रैफिक को बढ़ाना ही नहीं है बल्कि ट्रैफिक को विज़िटर्स और कस्टमर्स मैं कन्वर्ट करना भी है । इसलिए आपको एस ई ओ के मेजर टाइप्स पता होने चाहिए । यूँ तो एस ई ओ के बहोत सरे टाइप्स हैं जिनमे से तीन मैन टाइप्स के बारे मैं आपको जरूर जानना चाहिए ।

SEO SEO एक्सपर्ट कैसे बने फुल डिटेल हिंदी में
SEO Works


पहला है टेक्निकल एस ई ओ, टेक्निकल एस ई ओ आपकी वेबसाइट की टेक्निकल आस्पेक्ट्स को इम्प्रूव करता है ताकि सर्च इंजन पर आपके पजेस की रैंकिंग बेहतर हो सके । इसके लिए टेक्निकल एस ई ओ वेबसाइट की स्पीड को बेहतर करना, एस एस एल का यूस करना, मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट तईयार करना, एक्स एम् एल साइट मैप क्रिएट करना और क्रॉल एरर को फिक्स करना जैसे बहोत सरे इम्पोर्टेन्ट टास्क कम्पलीट करता है । दूसरा इम्पोर्टेन्ट एस ई ओ टाइप है ऑन पेज एस ई ओ! ऑन पेज एस ई ओ मै इंडिविजुअल वेब पजेस को ऑप्टिमाइज़ किया जाता है ताकि साइट को हायर रैंक पर पहुँचाया जा सके और सर्च इंजन पर ज्यादा से जयादा रिलेवेंट ट्रैफिक जनरेट किया जा सके । ये एस ई ओ टाइप पेज के कॉन्टेंट और एच टी एम् एल सोर्स कोड दोनों पर वर्क करता है इसमें रिलेवेंट हाई क्वालिटी कॉन्टेंट पब्लिश करना, हेडलाइंस तो ऑप्टिमाइज़ करना, एच टी एम् एल टैग्स और इमेजिस शामिल होते हैं ।आपकी वेबसाइट पे एक्सपर्टीज अथॉरिटी और ट्रस्ट एस्टब्लिश करना भी ऑन पेज एस ई ओ मै शामिल है ।


और अब आगे थर्ड इम्पोर्टेन्ट एस ई ओ टाइप है ऑफ पेज एस ई ओ । टेक्निकल एस ई ओ और ऑन पेज एस ई ओ तो वेबसाइट पर वर्क करते हैं ताकि उसकी रैंकिंग बेहतर की जा सके जबकि ऑफ पेज एस ई ओ वेबसाइट से बाहर वर्क करता है । ताकि आपकी वेबसाइट पर दूसरी वेबसाइट से ट्रैफिक आ सके । इसमें दूसरी वेबसाइट से बैकलिंक्स लेना और सोशल मीडिया पर प्रमोशन करने जैसी एक्टिविटीज अति है । जो वेबसाइट से बाहर होती है लेकिन उसका पर्पस भी बाकि दोनों एस ई ओ जैसा ही होता है । वैसे जहा तक यूट्यूब सर्च की बात है तो यूट्यूब सर्च भी गूगल सर्च जैसा ही होता है । इनमे जयादा डिफरेंस नहीं होता है । यूट्यूब मैन ऐसे Blogsस हाई रैंकिंग पते हैं जिन्हे ज्यादा देखा जाता हैं, जिनका वाच टाइम ज्यादा होता हैं, जिन्हे ऑडियंस ने ज्यादा लिखे किया होता हैं । इसके अलावा Blogs ज्यादा लोगो तक अपनी पहुंच बनाये इसके लिए यूट्यूब एस ई ओ करना होता हैं जिसमे टाइटल, डिस्क्रिप्शन, टैग्स, थंबनेल ऐसे बहोत सारे इम्पोर्टेन्ट फैक्टर्स आते हैं और अगर आप किसी World Affairsको यूट्यूब सर्च मै हाई रैंक पर लाना चाहते हैं तो आपको इन सभी एस ई ओ फैक्टर्स का प्रॉपर तरीके से यूस करना होगा । तभी आप यूट्यूब एस ई ओ एक्सपर्ट बन पाएंगे । इस बारे मै ज्यादा जानने के लिए आप आई बटन पर क्लिक करें और इससे रिलेटेड Blogsस देख सकते हैं ।


एस ई ओ के बारे मै इतना जान लेने के बाद एस ई एम् की बेसिक नॉलेज भी होनी चाहिए । जहाँ एस ई ओ ट्रैफिक फ्री होता हैं एस ई एम् ट्रैफिक पेड होता हैं । ये किसी बिज़नेस की मार्केटिंग का ऐसा तरीका है जो पेड अड्वॅरटाइस्मेंट का इस्तमाल करता है । और ये पेड ऐड सर्च इंजन रिजल्ट पजेस यानि की (एस ई आर पी एस ) पर दिखाई देते हैं और इसका सबसे बड़ा एडवांटेज ये है की एस ई एम् ऐडवर्टाइज़र्स को ये ओप्पोरचूनिटी देता है, ये अवसर देता है की वो अपने एड्स ऐसे मोटिवेटेड कस्टमर्स के सामने रख सकें जो उनका प्रोडक्ट खरीदने के लिए तुरंत तईयार हो जाये । इस तरह मार्केटिंग करके बिज़नेस करना आसान हो जाता है । एस ई एम् के जरिये मैनली दो सर्च नेटवर्क्स गूगल एड्स और बींग एड्स पर पेड ऐड चला कर मार्केटिंग की जाती है । इसकी नॉलेज लेने के बाद आपके लिए ये समझना आसान हो जायेगा की आपको एस ई ओ के जरिये कौन से बेस्ट रिजल्ट लाने की जरुरत है । एक एस ई ओ एक्सपर्ट बनने के लिए नेक्स्ट इम्पोर्टेन्ट स्टेप ऐसा एस ई ओ ट्रेनिंग कोर्स करना है जो आपको एस ई ओ की डीप नॉलेज दे सके । ताकि आप एस ई ओ मैन एक्सपर्ट हो सके और अपनी वेबसाइट और World Affairsको ग्रो कर सकें । और अगर चाहें तो एस ई ओ एक्सपर्ट या कंसलटेंट की तरह भी आप काम कर सकें ।

वैसे तो आप अपनी कविनियन्स के अकॉर्डिंग अपने लिए बेस्ट कोर्स चूस कर लेंगे । फिर भी आपको बता देतें है की गूगल डिजिटल गैराज पर आपको डिजिटल मार्केटिंग का बेसिक कोर्स मिल जायेगा और गूगल की एस ई ओ गाइड से भी आप काफी कुछ सिख सकतें हैं । इसके अलावा बहोत से एस ई ओ कोर्सेस आपको ऑनलाइन मिल जायेंगे जिनमे फ्री और पेड दोनों तरह के कोर्सेस होंगे । जिनमे से आप अपने लिए बेस्ट ऑप्शन चुन सकतें हैं । कोर्स करना कम्पलसरी नहीं है अगर आप एक्सपर्ट बनना चाहतें हैं तो काम टाइम मैन डीप नॉलेज लेने और सर्टिफाइड एस ई ओ बनने के लिए कोर्स करना एक बहोत ही अच्छा ऑप्शन होगा । आप कोर्स करें चाहे न करें । प्रैक्टिस के लिए अपनी वेबसाइट या World Affairsतो आपको जरूर क्रिएट करना चाहिए ।

केवल एस ई ओ ट्रेनिंग कोर्स कर लेने से आप एक्सपर्ट नहीं बन जायेंगे । इसके लिए आपको प्रैक्टिकल नॉलेज की लगातार प्रैक्टिस करनी होगी और अगर आप कोर्स किये बिना इंटरनेट पर मौजूद इनफार्मेशन बेस्ट एस ई ओ इनफार्मेशन फ़िल्टर करके उससे एस ई ओ स्किल्स सिखने वाले हो तो भी आपको एस ई ओ प्रैक्टिस के लिए एक प्लेटफार्म की जरुरत होगी । इसलिए बेस्ट यही रहेगा की आप वर्डप्रेस या किसी और प्लेटफार्म पर आप अपनी फ्री वेबसाइट बना लें और उस पर एस ई ओ प्रैक्टिस करतें रहें । हाँ वेबसाइट बनाने के बाद आपको उस पर यूस्फुल और यूनिक कॉन्टेंट भी डालना होगा ।इसके लिए भी तईयार रहें ।


और अब आता है आखरी स्टेप जो कहता है की अपडेट आपको रहना होगा। इस ऑनलाइन वर्ल्ड मैं सब कुछ बहोत तेजी से बदलता जा रहा है तो फिर एस ई ओ के तरीके भी तो चेंज होते रहेंगे । हेना । इसीलिए एक एस ई ओ एक्सपर्ट के तोर पर आपको अपडेटेड रहना होगा क्योंकि गूगल और बाकि सर्च इंजिन्स अपने अल्गोरिदम मैं लगातार चैंजेस करते रहतें है। ताकि यूज़र्स को बेहतर एक्सपीरियंस दिया जा सके । ऐसे मैं आपको इन चैंजेस का पता होना चाहिए और इनके अकॉर्डिंग अपनी एस ई ओ स्ट्रेटेजी को एडजस्ट करना भी आना चाहिए । इसके लिए आप गूगल ब्लॉग, गूगल सर्च ब्लॉग, गूगल वेबमास्टर ब्लॉग और सर्च इंजन लैंड जैसे रिसोर्सेज के जरिये सर्च मैं होने वाले लेटेस्ट चैंजेस के लिए मैं खुद को अपडेट रख सकते हैं ।

एस ई ओ एक्सपर्ट बनने के लिए आपको राइट एस ई ओ टूल्स का भी पता होना चाहिए जैसे गूगल एनालिटिक्स, गूगल कीवर्ड प्लैनर , गूगल वेबमास्टर टूल्स और सेमरूष यानि की एस ई एम् आर यू एस एच । तो दोस्तों अगर आप एस ई ओ एक्सपर्ट बनकर इसे अपना प्रोफेशन बनाना चाहते हैं तो इस हाइली कॉम्पिटिटिव वर्ल्ड मैं आपको अपनी स्किल्स को भी बढ़ाना होगा । जैसे आप गुड और रिलेवेंट कॉन्टेंट की नॉलेज रखतें हैं, कोडिंग के बेसिक्स जानतें हैं और क्रिटिकल थिंकिंग और एनालिटिकल स्किल्स से प्रॉब्लम को सोल्वे करना जानते हैं । तो एक एस ई ओ एक्सपर्ट के तोर पर आपको मिलने वाली ओप्पोरचुनिटीज़ काफी ज्यादा होगी । इसलिए सिर्फ टाइटल और डिस्क्रिप्शन को एस ई ओ न समझे । इसका एरिया बहोत ही बड़ा है । और अगर आपको इसमें इंटरेस्ट है तो ये एरिया आप स्टेप बाई स्टेप कवर कर ही लेंगे । इसीलिए राइट कोर्स और टूल्स पर फोकस करके पेशेंस के साथ प्रैक्टिस करें ताकि आप जल्द से जल्द एस ई ओ एक्सपर्ट बन सकें ।

[Read About HOW TO BECOME INCOME TAX OFFICER]


तो दोस्तों ये BLOG आपको कैसा लगा, एस ई ओ के बारे मैं जानकारी आपको कैसी लगी, अगर फिर भी कोई सवाल है तो प्लीज आप हमें कमेंट बॉक्स मैं लिख कर के जरूर शेयर कीजिये । साथ ही साथ हमारे World Affairs सब्सक्राइब करके बैल आइकन को प्रेस करना बिलकुल न मिस करें । मुलाकात होगी आपसे बहोत जल्दी ही नये BLOG के साथ तब तक के लिए धन्यवाद् ।

One thought on “SEO एक्सपर्ट कैसे बने फुल डिटेल हिंदी में

Leave a Reply

Your email address will not be published.